Save girls child

भारतीय समाज में छोटी बच्चियों के खिलाफ भेदभाव और लैंगिक असमानता की ओर ध्यान दिलाने के लिये बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ नाम से प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा एक सरकारी सामाजिक योजना की शुरुआत की गयी है। हरियाणा के पानीपत में 22 जनवरी 2015, बुधवार को प्रधानमंत्री के द्वारा इस योजना की शुरुआत हुयी। ये योजना समाज में लड़कियों के महत्व के बारे लोगों को जागरुक करने के लिये है। कन्या भ्रूण हत्या को पूरी तरह समाप्त करने के द्वारा लड़कियों के जीवन को बचाने के लिये आम लोगों के बीच ये जागरुकता बढ़ाने का कार्य करेगी तथा इसमें एक लड़के की भाँति ही एक लड़की के जन्म पर खुशी मनाने और उसे पूरी जिम्मेदारी से शिक्षित करने के लिये कहा गया है
1. बेटी है तो कल है.


2. बेटी हैं कुदरत का उपहार, जीने का इसको दो अधिकार.

3. बेटी को मरवाओगे तो दुल्हन कहा से लाओगे.

4. चाहे मुन्ना चाहे मुनिया, एकही बच्चे की प्यारी दुनिया.

5. खुशहाल बालिका भविष्य देशका.

6. दहेज़ लेना देना सामाजिक अपराध है

.7. माँ चाहिए…. पत्नी चाहिए…. बहन चाहिए…. फिर बेटी क्यों नहीं चाहिए ?

8. बहुत सरल है पेट में करना मुझप पर वार, हिम्मत है तो ए माँ! मुझको पैदा करके मार….

9. लक्ष्मी-नारायण, राधे-श्याम, सीता-राम, गौरी-शंकर, – जब पुजीनीय भी पहले नारी…. फिर नर,

10. तो फिर क्यों नहीं देते लड़कियों को जन्म का अवसर.

No comments:

Post a Comment